अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद गाजीपुर के जिला प्रतिनिधि मण्डल ने जिला अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

215

गाजीपुर।अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद गाजीपुर के प्रतिनिधि मंडल ने तमिलनाडु की छात्रा लावण्या की छात्रा की न्याय और जबरन मत परिवर्तन के खतरे से निपटने की आवश्यकता के विषय को लेकर जिलाधिकारी की अनुपस्थिति में उपजिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा ।

जिसमे सेक्रेट हार्ट पब्लिक स्कूल की छात्रा ने जबरन मत परिवर्तन से प्रताड़ित होकर आत्महत्या कर ली जिससे अभाविप के साथ देश का युवा भी बेहद सदमे में है ।

इसलिए अभाविप की कुछ मांग है ।

सभी ईसाई मशीनरी स्कूलों में संस्थागत विवाद का अंत किया जाना चाहिए यह सुनिश्चित करने के लिए की संस्थागत इजलीवाद का अभ्यास नहीं किया जाता है, चर्चा और मस्जिदों को स्कूल से अलग करने के लिए उचित नियामक ढांचे को शक्ति से लागू किया जाना चाहिए जबरन धर्मांतरण को एक दंडनीय अपराध बनाया जाना चाहिए इसलिए मनतात रण विरोधी कानून की बहुत आवश्यकता है और इसे राज्य और पूरे देश में समय पर लागू करना अनिवार्य है।

जिला संयोजक सूरज यदुवंश ने इस घटना की कड़ी निन्दा की और कहा की इस तरह की घटना से ये साफ पता चलता है की देश में ईसाई मिशनरियों का षड्यंत्र फैला हुआ है जो केवल गरीब और बस्तियों तक ही नही इसे एक वृहद रूप से विद्यालयों के माध्यम से इनका षड्यंत्र इतना व्यापक स्तर पर चल रहा है इस पर सरकार को एक कड़ा कानून बनाना चाहिए

साथ में सूरज यदुवंश गोल्डेन, शांभवी शुक्ला, रत्नेश त्यागी, और अवनीत भारद्वाज उपस्थित रहे