अपने ही गांव में बेगाने की तरह जीवन यापन करने को मजबूर हैं रामजन्म का परिवार

181

मरदह गाजीपुर।अपने ही घर व गांव में बेगाने की तरह जीवन यापन करने को मजबूर हैं रामजन्म शर्मा का परिवार।

बीते 24 दिसम्बर को रास्ता व नाली अवरूद्ध किये जाने के बावत शिकायती प्रार्थना पत्र

जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह को देने बाद भी आज तक किसी ने नहीं फ़रियादी की सूध।मालूम हो कि थाना क्षेत्र के घरिहां चनखरा गांव निवासी

रामजन्म शर्मा पुत्र मुसाफिर शर्मा ने दिए प्रार्थना पत्र के माध्यम शिकायत दर्ज कराया था कि प्रार्थी का मौजा चनखरा में बाप दादे के जमाने से घर मकान सहन इत्यादि स्थित है।मैं अपने घर से निकलकर पूरब तरफ गली से होते हुए खण्डंजे पर जाता हूँ लेकिन मेरे विपक्षी दीनानाथ,शमशेर,लल्लन,पुत्रगण स्व० विन्ध्याचल शर्मा खण्डंजा के पास गली के रास्ते को अवरूद्ध कर दिये हैं जिससे हम प्रार्थी का आवागमन बाधित हो गया है तथा नाबदान का पानी भी मेन नाली में न गिरकर मेरे घर में ही सड़ रहा है।अवरूद्ध रास्ते को खोलवाने हेतु कई बार गांव के मानिन्द लोगों की पंचायत से मामले को हल कराने का प्रयास किया लेकिन विपक्षी गली के रास्ते को जबरदस्ती अवरूद्ध कर दिये हैं,जिससे हमें आवागमन व आना जाना दुर्भर हो गया है।जिससे इस बात की शिकायत स्थानीय थाना मरदह तथा उपजिलाधिकारी कासिमाबाद से किया लेकिन आज तक अवरूद्ध रास्ते को खोलवाने में तहसील प्रशासन असफल रहा है।जिससे प्रार्थी व मेरे घर की औरतें तथा छोटे-छोटे बच्चे दूसरे के घर से होते हुए खण्डजे पर जाते हैं।ऐसी स्थिति में हम अपने घर व गांव में बेगाने की तरह जीवन यापन करने को मजबूर हैं।रामजन्म शर्मा ने जिलाधिकारी महोदय का ध्यान आकृष्ट कराते हुए अवरूद्ध रास्ता व गली को खाली कराते हुए नाबदान के पानी को चालू कराते हुए,आवागमन सुचारू रूप से खण्डंजे पर कराने की गुहार लगाते हुए,विपक्षीगण के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही करने की मांग की।