आक्रोशित पत्रकारों ने कासीमाबाद तहसील पर बलिया जिला प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की 

155

कासिमाबाद गाजीपुर।कासिमाबाद तहसील क्षेत्र के पत्रकारों का एक प्रतिनिधिमंडल रविवार के दिन बलिया जनपद में नकल की खबर प्रकाशित करने पर पत्रकारों की गिरफ्तारी की मामले को लेकर सभी पत्रकार साथियों ने काली पट्टी बांध कर उप जिलाधिकारी कासिमाबाद को राज्यपाल के नाम ज्ञापित पत्रक सौंप कर आक्रोश जताया।

प्रतिनिधि मंडल ने बताया कि यूपी बोर्ड परीक्षा में बलिया जिला के पत्रकारों को हाई स्कूल एवं इंटर की परीक्षा में व्यापक नकल के साथ इंटर संस्कृत एवं अंग्रेजी के पेपर सोशल मीडिया पर परीक्षा से पहले ही आउट हो गया।इस संबंध में खबर प्रकाशित करने के आरोप में तीन पत्रकारों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।बलिया जिला प्रशासन अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए पत्रकारों को ही दोषी ठहराते हुए मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने जैसा घृणित कार्य किया गया है।इस मामले को लेकर पत्रकारों के उत्पीड़न को रोकने के लिए राज्य सरकार के शासनादेश जारी कर निर्दोष पत्रकार को मुक्त करे।कासिमाबाद एसडीएम कमलेश कुमार सिंह को सभी पत्रकारों ने पत्रक सौंप कर बलिया जिला प्रशासन की इस प्रणाली कार्यवाही का विरोध करते हुए आक्रोश जताया इस दौरान बताया कि पत्रक के माध्यम से गिरफ्तार कर जेल भेजे गए पत्रकारों के तत्काल मुकदमा वापस के साथ तत्काल प्रभाव से जेल से रिहा करने की मांग की। पत्रकार साथियों ने काली पट्टी बांधकर आक्रोश जताते हुए जमकर बलिया प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और राज्यपाल से मांग करते हुए बताएं कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ निर्दोष पत्रकारों को जेल से रिहा किया जाए।इस मौके पर अनिल सिंह,राजू खान,अशोक कुमार राय,गोपाल सिंह,संतोष गुप्ता,राहुल सिंह,विनय ठाकुर,सरफराज अहमद,उमेश जयसवाल,गोपाल जी पांडेय,प्रेम शंकर पांडेय,तौहीद अब्बासी,रिजवान अहमद,रमेश यादव सहित सभी पत्रकार मौजूद रहे।