आलू को झुलसा से बचाएगी मैंकोजेब:मृत्युजंय सिंह जिला कृषि अधिकारी  

104

गाजीपुर।मौसम में उतार-चढ़ाव के कारण आलू की खेती प्रभावित हुई है।कई जगह पर झुलसा रोग की समस्या दिखने लगी है।इस रोग से आलू का आकार छोटा होने के साथ उपज आधी हो जाती है। कृषि रक्षा इकाइयों ने इस बीमारी से बचाव के लिए दवा उपलब्ध करानी शुरू कर दी है जो आधी कीमत पर किसानों को दी जाएगी।कृषि विभाग ने ब्लॉकों की कृषि रक्षा इकाइयों पर आलू को झुलसा रोग से बचाने के लिए उपयोगी मैंकोजेब दवा उपलब्ध करा दी गई है। इस पर 50 फीसदी का सब्सिडी दी जा रही है। किसानों को केंद्र से खरीदने के दौरान 236.25 रुपये का नकद भुगतान करना होगा। इसकी आधी रकम बाद में किसानों के खाते में बेजी जाएगी। सब्सिडी की रकम लेने के लिए किसानों को पंजीकरण कराना होगा। इसके लिए केंद्र पर ही आधार, बैंक का पासबुक और खतौनी देना होगा। कृषि विभाग का कहना है कि जनपद में 35 क्विंटल मैंकोजेब उपलब्ध है। सभी ब्लाकों के कृषि रक्षा इकाइयों पर करीब दो-दो क्विंटल दवा उपलब्ध कराई गई है। यदि पत्तियों पर किसी प्रकार का धब्बा दिखाई दे या मुरझाने लगें तो यह झुलसा रोक के लक्षण हैं। ऐसा होने पर मैंकोजेब 75 प्रतिशत डब्लूपी की 2 किग्रा मात्रा को 600 से 800 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर की दर से 15 दिन के अंतराल पर छिड़काव करना चाहिए। जनपद में करीब 20 हजार हेक्टेयर में आलू की खेती हुई है बिरनो,मरदह, कासिमाबाद,क्षेत्र में आलू की ज्यादा खेती हुई है।झुलसा रोग होने के बाद पैदावार घटकर आधी रह जाती है।इस सबंध में जिला कृषि अधिकारी मृत्युंजय सिंह ने कहा कि झुलसा रोग से आलू की खेती के रोकथाम के लिए 50 फीसदी सब्सिडी पर मैंकोजेब दवाई उपलब्ध कराई जा रही है।जो इस रोग से आलू की पैदावार बरकरार रखने में मददगार साबित होगी।