आशा ट्रस्ट ने ईंट भट्ठे पर प्रवासी मजदूरों के बच्चों के लिए प्रारंभ किया शिक्षा केंद्र

140

वाराणसी।चौबेपुर राजवारी स्थित एक ईंट भट्ठे पर प्रवासी मजदूरों के बच्चों के लिए सामाजिक संस्था आशा ट्रस्ट ने एक शिक्षण केंद्र का संचालन प्रारंभ किया है. बिहार, झारखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश से आने वाले प्रवासी मजदूरों के बच्चे वर्ष में अधिकांश समय अपने परिवार के साथ ईंट भट्ठों पर गुजारते हैं जिससे उनकी स्कूली शिक्षा प्रायः नहीं हो पाती है. ऐसे बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए संस्था द्वारा अस्थाई अनौपचारिक शिक्षा केंद्र का संचालन किया जा रहा है जिसमे ईंट भट्ठा संचालक का भी पूरा सहयोग मिल रहा है.

केंद्र पर आने वाले बच्चों को गर्म कपड़े और किताब कोपी की व्यवस्था भी संस्था द्वारा की गयी है.गीत-संगीत खेलकूद के माध्यम से रुचिकर ढंग से शिक्षण का कार्य रमेश प्रसाद देख रहे हैं जिन्हें दीन दयाल सिंह,सूरज पाण्डेय आदि का भी सहयोग प्राप्त हो रहा है.आशा ट्रस्ट के समन्वयक वल्लभाचार्य पाण्डेय ने बताया कि हमारा यह प्रयोग यदि सफल रहा तो आगामी सत्र में आस पास के कुछ अन्य ईंट भट्ठों पर शिक्षा केंद्र संचालित किये जाने पर विचार किया जाएगा।