ग्राम प्रधानों व सचिवों के बीच बनी असमंजस की “रार”भभकी

50

ग्राम प्रधान संगठन ने कराई आपत्ति दर्ज

 

मरदह गाजीपुर।ओडीएफ फेज-2 के अन्तर्गत चयनित विकासखंड के‌ 42 ग्राम प्रधानों व 17 सचिवों की बीच सामंजस्य स्थापित नही होने के कारण कार्ययोजना अधर में लटकी हुई है।दो माह में मात्र दो ग्राम पंचायतों की कार्ययोजना तैयार हुई शेष अधर में जिससे वित्तीय वर्ष में गांवों में विकास कार्य धीमी गति से चलने की उम्मीद प्रबल है।इस मामले को लेकर ग्राम प्रधान संगठन के पदाधिकारियों ने वृहस्पतिवार को सचिवों को बे=लगाम होने का आरोप लगाते हुए सहायक विकास अधिकारी पंचायत से मिल कर आपत्ति दर्ज जताई कहां कि हमें किसी प्रकार की जानकारी सचिव व‌ अन्य किसी के भी द्वारा नहीं दी जा रही है जिससे कार्ययोजना तैयार करने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा,आगे कहा कि अगर स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत चलने वाली इस प्रकिया के लिए सचिवों व ग्राम प्रधानों के सामंजस्य से संयुक्त रूप से कार्यशाला आयोजित कर हर विन्दुओं की जानकारी साझा की जाती तो कार्ययोजना तैयार करने में उत्पन्न बांधा दूर होती और विकास कार्य रफ्तार पकड़ती।इस संबंध में एडीओ पंचायत नवीन सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत चलने वाले कार्यक्रमों में किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं जल्द ही इस समस्या का समाधान सुनिश्चित किया जाएगा।इस मौके पर ब्लाक अध्यक्ष प्रधान संगठन राधेश्याम सिंह यादव,अनिल यादव,अरूण कुमार यादव, अजय खरवार,वकील राम,रामसुधार यादव,सुदर्शन यादव आदि मौजूद रहे।