चैती बयार के मादकता के संग होरी खेलन निकले बजरंग

192

बड़े ही धूम धाम से निकला ऐतिहासिक बुढ़वा मंगल जुलूस

दिलदारनगर गाजीपुर।फागुन-चैत्र मास के साथ अमराइयों की फिजा में घुली सुगंध और महुए के कोचरों से टपकते मादक सुगंध के साथ जब पालकी पर विराजमान हो होरी खेलन निकले हनुमंत तो मानो दिलदारनगर ग्राम सहित स्थानीय बाजार भी झूम उठा।मौका था बुढ़वा मंगल का।दिलदारनगर गांव स्थित पुराने पशु हाट के हनुमान मंदिर से पालकी पर विराजमान हो घोड़े, हाथी,ऊंट के साथ साथ भव्य गाजे बाजे संग हजारों की संख्या में उपस्थित श्रद्धालुओं संग जब बजरंग होली खेलने निकले तो पूरा माहौल भक्ति रस से सराबोर हो उठा।देव् स्थान प्रबंध समिति के संयोजक भिक्खी खरवार के नेतृत्व में निकला पारंपरिक ऐतिहासिक बुढ़वा मंगल शोभायात्रा गांव सहित स्थानीय नगर में जब प्रवेश किया तो अपने घर के छतों से शोभायात्रा पर लोगों ने पुष्प वर्षा कर यात्रा का स्वागत किया।साथ ही जगह जगह शोभायात्रा में शामिल श्रद्धालुओं को नगरवासियों ने शर्बत पिला कर स्वागत किया।शोभायात्रा में शामिल श्रद्धालु अबीर गुलाल लगाते पारम्परिक वाद्य यंत्रों और डीजे की धुन पर नाचते थिरकते सारे माहौल को होलियाना बना दिया।बुढ़वा मंगल की शोभायात्रा पूरे नगर का भ्रमण करने के बाद सायं लगभग 6 बजे पुराना पशु हाट स्थित महावीर मंदिर पहुंच शोभायात्रा का समापन किया।
—एलर्ट मोड में दिखी मुकामी पुलिस,जीआरपी और आरपीएफ,
दिलदारनगर गांव से निकलने वाले बुढ़वा मंगल जुलूस को लेकर भारी संख्या में पुलिस मौजूद रही।साथ ही पीएसी की टुकड़ी भी सुरक्षा व्यवस्था में लगी रही।जिसका नेतृत्व दिलदारनगर थाने के प्रभारी निरीक्षक कमलेश पाल कर रहे थे,तो दूसरी ओर रेलवे सुरक्षा बल के प्रभारी निरीक्षक बालगंगाधर, आरपीएफ एस आई नवीन कुमार,जीआरपी चौकी प्रभारी प्रवेश कुमार सिंह ने दलबल सहित संभाल रखी थी।