जेसीबी का खुलेआम हो रहे इस्तेमाल से मनरेगा मज़दूरों को मज़दूरी से वंचित किया जा रहा है

130

ग्रामीणों ने किया विरोध, ग्राम प्रधान ने अधिकारियों से की जांच की मांग

 

वाराणसी।राजातालाब सिंचाई विभाग द्वारा ग्राम सभा के नाला (बाँहा) खुदाई में मजदूर को लगाने के बजाय जेसीबी से कार्य को पूर्ण किया जा रहा है।

सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में विकास को बढ़ावा देने तथा मजदूरों को रोजगार देने को लेकर मनरेगा से कई योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम किया जा रहा है। वहीं सरकारी मुलाजिमों तथा ठेकेदारों की मिली भगत से योजना को मजदूरों से कराने के बजाय जेसीबी से कार्य को पूर्ण कर मजदूरों का रोजगार छिनने का काम किया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला रविवार को विकास खंड आराजी लाईन के ग्राम पंचायत चित्तापुर के बंगालीपुर गाँव में देखने को मिला।

जिसमें मनरेगा मजदूर को लगाने के बजाय जेसीबी से कार्य को पूर्ण किया जा रहा है। जिसको लेकर स्थानीय ग्रामीण ने विरोध करते हुए ग्राम प्रधान सहित आलाधिकारी को अवगत कराया गया है। साथ ही सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता, योगीराज सिंह, सतीश चंद्र पांडे, कमलेश कुमार, छेदी लाल यादव, दिलीप आदि ग्रामीण ने बताया कि सिंचाई विभाग, ठेकेदार की मिली भगत से ग्राम सभा के विभिन्न विकास कार्य मनरेगा योजना से न करवा के धड़ल्ले से दिनदहाड़े जेसीबी से कार्य करवाया जाता है और शिकायत करने के बाद भी कोई उचित कार्रवाई नही की जाती है।

जिसकी जानकारी होते ही प्रधान प्रतिनिधि हरी शरन पटेल मौक़े पर पहुँच कर जेसीबी से हो रहे खुदाई कार्य रूकवा कर अधिकारियों से इसकी टेलीफ़ोनीक शिकायत की है।