दौड़ रहे विचित्र शैली में लिखे नंबर वाले वाहन पुलिस प्रशासन अनजान

193

गाजीपुर।ग्रामीण अंचल सहित जिले भर में दो पहिया और चार पहिया वाहनों पर नियम विरुद्ध लिखे गए नंबरों व वाल पेन्टिंग पर पाबंदी लगाने व बाइक पर तीन से चार सवारी बैठाने में क्षेत्रीय व यातायात पुलिस फेल हो चुकी है।अजीबो गरीब नंबर लिखाकर वाहन मालिक वाहनों को फराटे दौड़ा रहे हैं।जिले में ऐसे वाहन बड़ी तादात में धूम रहे हैं,जिन पर स्टाइलिश और अन्य तरह के अस्पष्ट नंबर लिखे रहते हैं।कई वाहनों के की नंबर प्लेट पर लो गों,नाम,राजनीतिक पदनाम आदि लिखे रहते हैं,जो नियम विरुद्ध है।कुछ वाहनों की नंबर प्लेट पर वाहन मालिक नाम गौत्र या फिर पेशा लिखा रहता है।जिले में इस तरह के कई दो पहिया और चार पहिया वाहन बेखौफ घूम रहे हैं।चार पहिया वाहनों की नंबर प्लेट पर अनावश्यक रूप से लाल व नीले रंग की से पट्टी खींच दी जाती है।गलत तरीके से नंबर से लिखे होने के कारण लूट, एक्सीडेंट या अन्य तरह की वारदात होने पर बदमाशों के वाहनों के नंबर पीड़ित व्यक्ति समझ नहीं पाता है।ऐसे में अपराधी आसानी से बच- निकलते हैं और उन्हें पकड़ने के लिए पुलिस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है।जुर्माने का प्रावधान:वाहनों पर स्पष्ट रूप से नबंर नहीं लिखे होने,निशान चिन्ह या लोगो अंकित होने पर मोटर व्हीकल एक्ट के तहत जुमान लगाया जा सकता है।वाहनों पर ऐसे डिजाइनदार नंबर लिखने वाले व प्लेटो को बनाने वालों को भी समझाइश देनी चाहिए,लेकिन ऐसा नहीं होता।उल्लंघन करने में कोई किसी से पीछे नहीं: यातायात कानूनों का उल्लंघन करने में कोई किसी से पीछे नहीं है।आम लोगों पर रौब जमाने के लिए कुछ पुलिसकर्मी या किसी भी फोर्स में नौकरी करने वाले अपने मोटर साइकिलों के आगे-पीछे नंबर प्लेट पर के पुलिस व आर्मी लिखवा लेते हैं।इसके अलावा राजनीतिक पार्टियों के ओहदेदार लोग व प्रिटिंग प्रेस व पत्रकार वाले भी कानून का मजाक उड़ाते है सभासद से लेकर प्रधान तक और सदस्य से लेकर अध्यक्ष तक के वाहनों की नंबर प्लेट पर उनका पदनाम लिखा होता है।इसके अलावा आज कल प्रचलन में तेजी से भीम आर्मी,योगी सेवक, आजाद रावण सेना,अखिलेश वादी,यादव,यदुवंशी,क्षत्रिय,के नाम सहित अनेक वाल पेन्टिंग तेजी से चल रहा है।