पहले दिन बच्चे गुरू जी का इंतजार करते रहे,पर मास्टर साहब कहाँ 

191

बिरनो गाजीपुर।शिक्षा क्षेत्र में परिषदीय विद्यालयों की स्थिति में सुधार नाम की कोई झलक भी देखने को नहीं मिल रही,चाहे लाख कोशिशें,कवायदे कर लें सरकार व संबधित विभाग,उसके बाद भी ब्लाक के शिक्षा में कहीं कोई बदलाव नजर नहीं आ रहा हैं।बेसिक शिक्षा अधिकारी के आकस्मिक निरीक्षण,निलंबन के बाद भी प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षक अपने करतूतों से बाज नहीं आ रहे।वित्तीय वर्ष के सत्र शुक्रवार को शुरू हुए।खुले सरकारी विद्यालय पर परन्तु इसका तनिक भी असर होता नही दिख रहा है।शिक्षकों ने तू डाल डाल तो मैं पात पात कि कहावत को चरितार्थ करने का काम किया है,शुक्रवार को जब टीम सुबह प्राथमिक विद्यालय शेखपुर 8.15 बजे पहुँची तो सभी सहायक अध्यापक उपस्थित रहें लेकिन प्रधानाध्यापिका सोनी गुप्ता रही अनुपस्थित रही।वही बच्चे एक भी विद्यालय में उपस्थित नहीं रहे।8.25 बजे प्राथमिक विद्यालय गन्नापुर पर सभी अध्यापक समय पर विद्यालय पर उपस्थित रहे।परन्तु पठन पाठन कार्य चालू नहीं था।8.45 बजे तक प्राथमिक विद्यालय पृथ्वीपुर पर ताला लटक रहा था और बच्चे टहल रहे थे।बच्चे प्रधानाध्यापक व अध्यापक के आने का इंतजार करते बैठे नजर आए।अगल – बगल व गांव के लोगों ने बताया की विद्यालय पर तैनात सभी शिक्षक कभी भी समय से विद्यालय नहीं पहुचतें और तो और इनके रसूखदारी के चलते इनके उपर कभी कोई कारवाई नहीं होती,कुछ अभिभावक ने बताया कि विभाग द्वारा चेंकिग की जाती है परन्तु कोई कारवाई नहीं होने से इनके हौसले बुलंद है।