मस्तिष्क के विकास का साधन शिक्षा एवं शारीरिक विकास का साधन खेल:शिवम त्रिपाठी

136

*गोपीनाथ विद्या ट्रस्ट द्वारा दो दिवसीय वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन*

बच्चों में नेतृत्व भावना विकसित करने के लिए खेल अति आवश्यक- डा. अफजाल अख्तर

प्रतिभागियों ने किया अपनी क्षमता एवं प्रतिभा का उत्कृष्ट प्रदर्शन

हजारों की संख्या में दर्शकों ने उठाया खेल का लुत्फ

कासिमाबाद गाजीपुर।विकास खंड अंतर्गत गोपीनाथ विद्या ट्रस्ट देवली द्वारा बाल दिवस के अवसर पर महाविद्यालय के प्रांगण में दो दिवसीय वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का आज आयोजन किया गया।जिसका शुभारंभ मुख्य अतिथि डॉ अफज़ाल अख्तर (एमबीबीएस,फीडो, जनरल फिजिशियन)गोपीनाथ फार्मेसी कालेज द्वारा मशाल जलाकर किया गया।इस प्रतियोगिता में खो-खो,कबड्डी, बालीबाल,दौड़,ऊंची कूद-लम्बी कूद आदि खेल का आयोजन किया गया।इस प्रतियोगिता में गोपीनाथ विद्या ट्रस्ट द्वारा संचालित सभी कालेज के विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया एवं अपनी क्षमता व प्रतिभा का उत्कृष्ट प्रदर्शन किया।इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने अपने संबोधन में कहा कि खेलों से हमारा शारीरिक व मानसिक विकास होता है।बच्चों में नेतृत्व की भावना विकसित करने के लिए खेल अति आवश्यक है। खेल शिक्षा का महत्वपूर्ण अंग है। अतः बच्चों को खेलों में उत्साह के साथ भाग लेना चाहिए।कालेज के प्रबंधक शिवम त्रिपाठी ने कहा कि मस्तिष्क के विकास का साधन यदि शिक्षा है तो शारीरिक विकास का साधन खेल हैं इससे बच्चों में स्नेह और मित्रता का भाव जागृत होता है।इस अवसर पर कालेज परिवार के शिक्षक शिक्षिकाओं सहित क्षेत्र के गणमान्य नागरिक, युवा,वृद्ध एवं हजारों की संख्या में दर्शकों की उपस्थिति रही।