मानव में देवत्व का उदय,धरती पर स्वर्ग का अवतरण

20

गाजीपुर।हम बदलेंगे तो युग बदलेगा और हम सुधरेंगे तो युग सुधरेगा” ,धर्म की जय हो,अधर्म का नाश के नारे पूरा वातावरण गूंजायमान हो उठा।अखिल विश्व गायत्री परिवार के तत्वावधान में शुक्रवार को मरदह ब्लाक के जनता इण्टर कॉलेज,नारंगपुर – रानीपुर खेल मैदान में चल रहे धार्मिक अनुष्ठान के दूसरे दिन सामूहिक जप,ध्यान,प्रज्ञा योग व्यायाम,प्राणायाम,देव पूजन,एवं गायत्री महायज्ञ एवं विविध संस्कार,आओं गढ़े संस्कारवान पीढ़ी कार्यशाला/गोष्ठी,युग संगीत एवं उद्बोधन किया गया।शांति कुंज हरिद्वार से आएं कथावाचक‌ संतराम तपस्या,डा.डी.पटेल,पवन कुमार,अर्पित पाण्डेय की टीम ने विधि विधान पूर्वक पूजन अर्चन सम्पन्न कराते हुए लोगों से बुराइयों को छोड़कर सन्मार्ग पर चलने का संकल्प दिलाया।तथा मानव में देवत्व का उदय,धरती पर स्वर्ग का अवतरण,आत्मवत् सर्वभूतेष,वसुधैव कुटुम्बकम् के विषय विस्तार पूर्वक प्रकाश डाला।कार्यक्रम में झांसी की रानी लक्ष्मीबाई,राणा प्रताप,शिवाजी,स्वामी विवेकानंद, गायत्री माता,भारत माता,राम,सीता,लक्ष्मण,हनुमान जी, शंकर व पार्वती जी,कृष्ण-राधा,रुक्मणी,सती माता,धर्म ध्वज वाहक, राष्ट्र ध्वज वाहक के रूप में विभिन्न मनमोहन झांकियां सबको भाव-विभोर करती रही।मुख्य कथावाचक संतराम तपस्या ने उपस्थित जनमानस को जीवन जीने की कला, व्यक्ति निर्माण,परिवार निर्माण एवं समाज निर्माण के संबंध में सीख दी,मनुष्य के जन्म और इसके उद्देश्य के बारे में बताया गया.साथ ही सत्य सनातन धर्म में होने वाले संस्कारों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।सादा जीवन उच्च विचार के मार्ग पर चलने का संकल्प भी दिलाया,साथ ही स्वच्छता का संदेश, नशा / व्यसन मुक्ति,जल की बर्बादी रोकना और उसका संरक्षण करना,शिक्षा-संस्कार,स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता लाना,नारी जागृति,कटते जंगल और नष्ट होती हरियाली को बचाने के लिए जनमानस में पौधारोपण अभियान चलाने का आवाहन किया,इसके अलावा अन्य परोपकारी और परमार्थ के कार्य करना भी धार्मिक अनुष्ठान का प्रमुख उद्देश्य बताया।इस मौके पर सुरेन्द्र सिंह,रवींद्र शास्त्री,प्रमुख प्रतिनिधि धर्मेंद्र सिंह, प्रधान विरेन्द्र यादव,शिव प्रसन्न यादव,दीनानाथ शर्मा,ओपी सिंह,सदाशिव शर्मा, गुलाब बागी,ओपी पाण्डेय,हीरा सिंह, अभिजीत मुखर्जी, प्रमोद कुमार,दिनेश शर्मा,सच्चिदानंद सिंह,लौहर सिंह यादव,आदि मौजूद रहे।