राष्ट्रीय सेवा योजना के माध्यम से विद्यार्थियों का मानसिक एवं बौद्धिक विकास संभव

96

मरदह‌ गाजीपुर।हरिवंशी द्वारिका कालेज आफ एजुकेशन दुर्खुशी राष्ट्रीय सेवा योजना के सात दिवसीय विशेष शिविर के समापन हुआ।शिविर में स्वयंसेवक एवं स्वयंसेविकओं को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि शिक्षाविद डा.एस.एन.पाण्डेय ने कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना के माध्यम से विद्यार्थियों का मानसिक एवं बौद्धिक विकास संभव है।राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक अपने जीवन में आने वाली सभी कठिनाइयों का दृढ़ होकर मुकाबला कर सकतें है।उन्होंने राष्ट्रीय सेवा योजना व्यापक अर्थ को विस्तार से कार्यक्रम में मौजूद लोगों को बताया। उन्होंने कहा कि एनएसएस में प्रयुक्त लाल एवं नीला रंग स्वयं सेवकों को राष्ट्र निर्माण, सामाजिक गतिविधियों के लिए सक्रिय और ऊर्जावान होने के लिए प्रेरित करता है।महाविद्यालय के प्राचार्य एन.के.शर्मा ने कहा कि चिन्ह में बना पहिया निर्माण, संरक्षण के चक्र का प्रतिनिधित्व करता है। इसके साथ ही यह राष्ट्रीय सेवा योजना स्वयं सेवकों को समाज से जोड़ता है।उन्होंने कहा कि स्वयं सेवकों ने अनुशासित एवं संयमित रहते हुए इस शिविर में हिस्सा लिया यह हर्ष का विषय है।इस मौके पर वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी सुनील सिंह, प्रबंध निदेशक जगन्नाथ सिंह,वेदप्रकाश सिंह,राजीव सिंह,सुदर्शन चौबे,तारा देवी,गिरधर गोपाल चौबे,राकेश यादव,रूपेश, रोहित,सुनील,गजेन्द्र,नंद जी, राधेश्याम यादव आदि मौजूद रहे।