रिलायंस फ़ाउंडेशन के प्रयास से किसान उन्नति की ओर अग्रसर

150

मेरा नाम अरविन्द सिंह है और मै 40 वर्ष का एक मध्यमवर्गीय किसान हूँ| मैंने अपनी 5 एकड़ अर्थात 7.5 बीघे में धान की फसल की खेती की थी|मैं पिछले दो साल से रिलायंस फ़ाउंडेशन के साथ जुड़ा हूँ तथा हेल्पलाइन एवं कार्यक्रम के माध्यम से जानकारी लेते हुए लाभान्वित होता रहा हूँ| पिछले खरीफ में मेरे धान के फसल में कल्ले कम निकल रहे थे जिससे मुझे उत्पादन कम होने की आशंका थी इसी बीच मुझे रिलायंस फाउंडेशन द्वारा किसानों के लिए आयोजित किए जा रहे डलाउट कार्यक्रम की जानकारी दिनांक 14/8/21 मिली मैंने अपने मोबाइल से इस कार्यक्रम में जुड़ा । इस समस्या को मैंने रिलायंस फाउंडेशन के कार्यक्रम में 13-08-2021 को कृषि विज्ञान केंद्र अंकुशपुर गज़ीपुर के कृषि वैज्ञानिक डॉ जे पी सिंह के समक्ष धान के फसल में कम कल्ले निकलने की समस्या को पूछा और उन्होने हमे अपने खेत मे एन.पी.के. एक लीटर प्रति एकड़ तथा मल्टीप्लेक्स 50 ग्राम प्रति 15 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करने को कहा था और मैंने वैसा ही किया| जिसके फलस्वरूप मेरी धान की फसल अधिक मात्रा में कल्ले निकलने लगे जिसके फलस्वरूप उत्पादन में अच्छी बढ़ोतरी हुई| पिछले साल पाँच एकड़ खेत में प्रति एकड़ 11 क्विंटल के हिसाब से 44 क्विंटल धान का उत्पादन हुआ था जबकि 2021 खरीफ में प्रति एकड़ 13 क्विंटल के हिसाब से 65 क्विंटल धान का उत्पादन हुआ ईस तरह से पाँच एकड़ खेत में कुल 10 क्विंटल धान का उत्पादन पिछले साल की तुलना मे अत्यधिक हुआ जिससे 18000/-रुपए की अतिरिक्त आमदनी प्राप्त हुई|

हम रिलायंस फ़ाउंडेशन को बहुत बहुत धन्यवाद देते हैं जो कृषि के क्षेत्र में अपना बहुमूल्य योगदान देते हुए किसानों की आमदनी बढ़ाने में अपना बहुमूल्य योगदान दे रहा है|