रिलायंस फ़ाउंडेशन के सहयोग से किसान उन्नति की ओर अग्रसर

178

रिलायंस फ़ाउंडेशन के सहयोग से किसान उन्नति की ओर अग्रसर
मेरा नाम रामबचन कुशवाहा S/O स्व उमाशंकर कुशवाहा है और मै 62 वर्ष का एक मध्यमवर्गीय किसान हूँ रिलायंस फ़ाउंडेशन के साथ मैं पिछले दो सालों से जुड़ा हूँ और तकनीकी आधारित कार्यक्रम और हेल्पलाइन से लाभान्वित भी होता रहा हूँ| इस साल खरीफ के मौसम में मैंने 4 एकड़ खेत में धान की खेती की थी मेरी धान के फसल की पत्तीयां लाल होने लगी थी पिछले साल भी इसी समस्या के कारण उत्पादन में काफी कमी आयी थी मैंने बाज़ार से दवा लेकर छिड़काव किया था लेकिन कोई विशेष लाभ नहीं हुआ पिछले 2020 खरीफ की तरह इस साल भी पत्तियों के लाल होने लगी थी जिससे इस साल भी कम उत्पादन होने का अंदेशा था लेकिन रिलायंस फ़ाउंडेशन के द्वारा आयोजित औडियो कोंफ्रेस जो दिनांक 27/09/21 को आयोजित किया गया था उस कार्यक्रम में कृषि विज्ञान केंद्र पी जी कालेज के कृषि वैज्ञानिकके द्वारा दिये गए सलाह कापर आक्सीक्लोराइड 7.5 ग्राम और स्टेप्टोसायक्लिन 6 ग्राम पानी में घोल बनाकर छिड़काव कर के लाभान्वित हो पाया| जिसके फलस्वरूप मेरी धान की फसल में पत्ती लाल होने की समस्या समाप्त हो गयी|पिछले साल खरीफ में चार एकड़ खेत में 45 क्विंटल उत्पादन प्राप्त हुआ था लेकिन इस वर्ष उतने ही चार एकड़ खेत में 54 क्वितल धान का उत्पादन हुआ जो की पिछले 2020 की अपेछा 10 क्वितल अधिक उत्पादन प्राप्त हुआ| मैंने 1800 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से 54 क्विंटल धान को 97200 रुपए में बेंचा जबकि पिछले साल 1700 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से 45 क्विंटल धान को मैंने 76500 में बिक्री किया था इस प्रकार पिछले साल की अपेछा 20700/- रुपए की अतिरिक्त आमदनी प्राप्त हुई
सही समय पर आप के कार्यक्रम ने हम जैसे किसानों तक तकनीक के जारिये अपनी पहुँच बना कर हमे अपनी खेती में होने वाले नुकसान से न ही बचाया अपितु अतिरिक्त लाभ भी दिलाया इसलिए मै रिलायंस फ़ाउंडेशन को बहुत बहुत धन्यवाद देता हूँ जो हम किसान भाइयों की आर्थिक उन्नति के लिए सतत प्रयासरत है |