वन्यजीवों के बिना जंगल सिर्फ दृश्य है:अरविन्द यादव

210

मरदह।विश्व वन्यजीव दिवस के अवसर पर पर्यावरणविद् अरविन्द कुमार यादव ने माता जीउती आदर्श इं.का.रानीपुर विद्यालय परिसर में पौधारोपणकर व सामाजिक चिंतकों संग संगोष्ठी कर विलुप्त हो रहे दुर्लभ वन्यजीवों एवं वनस्पतियों पर चिंता जाहिर की है।बताया कि कुछ वर्षों से गिद्ध,नीलगाय विलुप्त हो रहे हैं इसी प्रकार अनेकों वन्यप्राणी विलुप्त होने के कगार पर है।जो हमारे लिये चिंता का विषय है।उन्होंने कहा कि इस दिवस को मनाने का मकसद बहुत ही साफ है कि दुनियाभर में जिस भी वजहों से वन्यजीव और वनस्पतियों लुप्त हो रही हैं उन्हें बचाने के तरीकों पर काम करना।पृथ्वी की जैव विविधता को बनाए रखने के लिए वनस्पतियां और जीव-जंतु बहुत जरूरी हैं।लेकिन पर्यावरण के असंतुलन और तरह-तरह के एक्सरपेरिमेंट्स के कुछ सारे जीव और वनस्पतियों का अस्तित्व खतरे में है।यह दिन हमें वन्य जीवों और वनस्पतियों के विभिन्न सुंदर और विविध रूपों का जश्न मनाने और उनके संरक्षण से लोगों को मिलने वाले कई लाभों के बारे में जागरूकता फैलाने का अवसर प्रदान करता है।यह हमें वन्यजीव अपराध और मानव-प्रेरित प्रजातियों की कमी के खिलाफ लड़ाई को तेज करने की तत्काल आवश्यकता के बारे में भी याद दिलाता है,जिसका आगे आर्थिक,पर्यावरणीय और सामाजिक प्रभाव पड़ता है।इस मौके पर संतोष यादव,सुलेखा यादव,बच्चा,दिनेश सिंह सहित कई समाजसेवी मौजूद रहे।