सरला भदौरिया ने स्वतंत्रता आंदोलन के लिए क्रांतिकारी भूमिका निभाई

196

मनिहारी गाजीपुर।स्थानीय क्षेत्र के एक निजी आई.टी.आई स्कूल में स्वतंत्रता सेनानी पूर्व सांसद सरला भदौरिया की पुण्यतिथि मनाई गई।नशामुक्ति जागरुकता अभियान के प्रदेश संयोजक रमेश यादव ने कहा कि सरला भदौरिया ने अपने पति स्वतंत्रता सेनानी पूर्व सांसद कमांडर अर्जुन सिंह भदौरिया के साथ मिलकर स्वतंत्रता आंदोलन के लिए क्रांतिकारी भूमिका निभाई और अंग्रेजी सेना की यातायात व्यवस्था ठप करने के साथ ही अंग्रेजी प्रशासन को उखाड़ फेंकने में पूरी शक्ति झोंक दी थी।उन्होंने अपने पति एवं अपने सहयोगियों के साथ मिलकर पुलिस थानों पर कब्जा किया और रेलवे स्टेशनों को जला कर अंग्रेजों को खुली चुनौती दी।सुनील कुमार यादव ने कहा कि उनको डराने-धमकाने के लिए अंग्रेजी हुक्मरानों ने उनके पति कमांडर अर्जुन सिंह भदौरिया को 44 वर्ष का सश्रम कारावास दिया।एक जेल से दूसरी जेल में निरंतर स्थानांतरित करते हुए ढाई वर्ष तक लगातार हाथ – पैर में बेड़ियां डालकर रखे,और उन्हें 52 बार गिरफ्तार किया।इसके बाद भी सरला भदौरिया के मनोबल को तोड़ नहीं सके।उन्होंने आजादी की जंग पूरी ताकत,जोश,कुर्बानी के जज्बे से सराबोर होकर लड़ी।इस अवसर पर प्रधान रामाश्रय सिंह चौहान,विरेंद्र प्रताप सिंह,जितेंद्र यादव,प्रवीण कुमार एडवोकेट, डा.पंकज,गौतम कुमार,प्रमोद यादव,ज्वाला प्रसाद,आदि उपस्थित थे।अध्यक्षता डा. लालजी भारद्वाज एवं संचालन पूर्व प्रधान जगरनाथ राम ने किया।