सांसद विधायक सहित विभागीय उदासीनता से एक बूंद पानी के लिए तरस रहे लोग 

199

गाजीपुर।क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों व विभागीय उदासीनता के कारण से दो वर्ष से शो पीस बना जल निगम पानी टंकी,बोरिंग ध्वस्त हो जाने के कारण आधा दर्जन गांवो के 600 लोगों की पानी सप्लाई गुल है।मालूम हो कि मरदह ब्लाक रोड स्थित सड़क किनारे जल निगम पानी टंकी का 2 पम्पसेट हैं जो विभागीय उदासीनता के कारण व देख रेख के अभाव में उसका बोरिंग दो वर्ष ध्वस्त पड़ा है।जिसके तरफ विधायक सांसद व विभाग के उदासीनता के कारण खामियाजा ग्रामीणों व दुकानदारों को भुगतना पड़ता है और वर्षो से पानी के लिए इधर-उधर चक्कर काटने को विवश है।कई बार विभाग से गुहार लगाने के बाद जब समाधान नहीं निकला तो ग्रामीणों ने पिछले दिनों घंटो पम्पसेट हाऊस व ब्लाक मुख्यालय पर घंटो प्रर्दशन भी किया था परन्तु बेनतिजा निकला।ना ही किसी के कान पर जूं रेंगा।अब जो की सामने चुनाव है जिस दौरान पानी टंकी को लेकर एक बार फिर चर्चा शुरू हो गई।इसके लिए कौन तैयार है यह तो समय बताएंगा।स्थानीय जल निगम से सप्लाई कि जाने वाले पानी को मरदह,पड़िता,नोनरा,कन्सहरी,भवानीपुर,कबीरपुर, नरवर,महेगवाँ,बिजवनपुर गांव के 600 उपभोक्ता इस्तेमाल करते इधर इस महामारी में पानी के लिए लोग तरस रहे हैं।गांव के सविता सिंह,सोनी सिंह,शम्मी सिंह,किरन सिहं,विभा मद्धेशिया,मनोज मद्धेशिया,सोनू मद्धेशिया, सौरभ वर्मा,सुरेश गुप्ता,हरिकेश राम,दिनेश वर्मा,मोनू सिंह,बिट्टू कन्नौजिया, अनीश कन्नौजिया,रतन,अन्नू, अमन,किशन,अनिकेत,विपिन ने आदि ने बताया कि सप्लाई बंद होने से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।जो आगामी विधानसभा चुनाव में यह अहम मुद्दा होगा जो इसके तरफ ध्यान देगा हम उसका ख्याल रखेगें।

लोगों ने बताया कि जल निगम पानी टंकी निजी सहायक लोगों की देखरेख में तैनात चार आपरेटर का वर्षो से दर्शन नहीं,वर्षो से परिसर बंद होने के कारण,देख भाल की जिम्मेदारी भगवान भरोसे,हर महीने लाखों रुपये वेतन का लाभ ले रहे कर्मचारी परन्तु ड्यूटी एक घंटे भी नहीं।