सुयोग्य प्रत्याशी का चयन कर एक वोट जरूर दें : रजनी कांत

133

प्रयागराज।जिस प्रकार हम अपनी बेटी और बहन के लिए सुयोग्य वर का चयन करते हैं,उसी प्रकार हम अपने सुयोग्य प्रत्याशी का चयन एक वोट देकर कर सकते हैं। इसलिए मतदान अवश्य करें, मतदान हम सबका अधिकार है। इस दौरान एक वोट का महत्व भी बताया।यह बातें हिंदुस्तान युवा उत्थान समिति के तत्वाधान में आयोजित *मतदाता जागरूकता अभियान* के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि भाजपा एनजीओं प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय सह्सयोजक ने रजनी कांत ने मतदाता पर्ची अभियान को गति देते हुए घर-घर जाकर कही। उन्होंने एक वोट का महत्व समझाते हुए कहा कि विश्व में 1 वोट से इतिहास रचा गया है। उन्होंने बताया कि 1776 में अमेरिका में 1 वोट ज्यादा मिलने से जर्मन भाषा के स्थान पर अंग्रेजी भाषा बनी। 1875 में फ्रांस में मात्र 1 वोट से राजतंत्र के स्थान पर गणतंत्र हुआ। 1917 में सरदार पटेल अहमदाबाद म्युनिसिपल कारपोरेशन का चुनाव मात्र 1 वोट से हार गए। 1930 में एक वोट ज्यादा मिलने से हिटलर नाजी पार्टी का प्रमुख बना और हिटलर युग की शुरुआत हुई। 1998 में भारत के लोकतंत्र में सबसे बड़ी घटना हुई देश के सबसे बड़े लोकतंत्र संसद में बाजपेई सरकार एक वोट से गिर गई। 2008 राजस्थान नाथद्वारा सीट से सीपी जोशी 1 वोट से चुनाव हार गए, उनके ड्राइवर को वोट देने का समय नहीं मिला।घर-घर मतदाता पर्ची के दौरान लोगों ने अपनी समस्या से भी अवगत कराया।कहा कि निर्वाचन आयोग को चाहिए कि टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए आधार कार्ड की अनिवार्यता करके वोटरों की सूची बनाए, जिससे बार-बार आने वाली विसंगतियां दूर की जा सके। मतदाता का नाम भी ना काट पाए। आधार कार्ड होते हुए पिछली बार मत देने के बावजूद भी इस वर्ष मतदान सूची में नाम ना होने से संपर्क के दौरान नागरिकों ने आक्रोश व्यक्त किया है। कहा कि मतदाता सूची एक होनी चाहिए।निर्वाचन आयोग का ध्यान आकर्षित करते हुए रजनीकांत ने कहा कि जिस प्रकार से निर्वाचन आयोग आचार संहिता का पालन कराने के लिए कटिबद्ध रहती है, उसी प्रकार आचार संहिता लागू होने पर कोई भी दल जनप्रतिनिधि एक दूसरे के दल में ना जाए। जिसका वोटर लिस्ट में नाम हो, अगर कोई बीमार हो या कोई दिक्कत हो तो उसे लिखित रूप से निर्वाचन आयोग कार्यालय में परमिशन ले कि हम वोट नहीं डाल रहे हैं। और अगर यह सूचना झूठी दी जाए तो उसे सजा देने का प्रावधान करना चाहिए। तभी लोकतंत्र का चुनाव सही तरह से माना जाएगा। क्योंकि लोग चुनाव में वोट डालने ही नहीं निकलते हैं। 45-50 प्रतिशत की वोटिंग होती है, जिसके कारण अयोग्य कैंडिडेट चुनाव जीत जाता है। मतदाता जागरूकता पर निर्वाचन आयोग को पहल करनी चाहिए

मतदाता जागरूकता अभियान के तहत सौ फ़ीसदी मतदान करें जातिवाद क्षेत्रवाद को छोड़ कर राष्ट्र हित में 100%मतदान करे ,अपने मत का महत्व समझे ।आज का युवा कल के भारत का भविष्य है।अपने परिवार व आसपास के लोगो को भी साथ लेकर मतदान जरूर करे, मतदान संविधान में दिया गया एक अधिकार है , इससे हम अपने पसंद की सरकार चुन सकते हैं।किसी को भी कोई बहाना नहीं करना चाहिए और घरों में छुट्टी नहीं मनानी चाहिए बल्कि अपने मत का प्रयोग करके अपनी सरकार चुननी चाहिए ।

रजनीकांत ने कहा कि मत एक ऐसी ताकत है कि आप इससे अच्छा प्रतिनिधि चुनकर अपने प्रदेश का भला कर सकते है गलत प्रतिनिधि चुनकर नुकसान और मत न देकर अपना अधिकार खो देते हैं , लिहाजा सबको वोट देना चाहिए और लोगों को प्रेरित करना चाहिए।अंत में गुंजन ने सभी लोगो का धन्यवाद किया।