हरदोई की सडीला विधान सभा सीट से भासपा व सपा दोनो ने उतार दिए प्रत्याशी

174

खटाई मे पड़ सकता हैभासपा व सपा का गठबंधन

 

*लखनऊ* भासपा के मुखिया ओमप्रकाश राजभर ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन किया है लेकिन इसी बीच प्रदेश की एक ऐसी विधानसभा सीट है जहां दोनों पार्टियों ने अपने-अपने प्रत्याशी उतार दिए हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा हरदोई की संडीला विधानसभा क्षेत्र से पार्टी के उम्मीदवार के रूप में नामित किए जाने के एक दिन बाद राजभर ने भी उसी सीट से अपना प्रत्याशी उतार दिया है।

दरअसल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने रविवार को घोषणा की है कि हरदोई की संडीला विधानसभा क्षेत्र से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुनील अर्कवंशी एसपी-एसबीएसपी के उम्मीदवार होंगे। लेकिन इसके ठीक एक दिन पहले अखिलेश यादव ने स्वतंत्रता सेनानी रामकुमार भार्गव की बेटी रीता सिंह को यहां से उम्मीदवार बनाया था। इसे बारे में जब दोनों पार्टियों से बात की गई तो दोनों ने जवाब भी अलग-अलग दिए।

समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा कि एसबीएसपी द्वारा सीट की घोषणा के बारे में पता नहीं है, यदि कोई भ्रम है तो जल्द ही जवाब दिया जाएगा। वहीं इसके उलट एसबीएसपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पीयूष मिश्रा ने कहा कि कोई भ्रम नहीं हो सकता। सपा ने संडीला सीट एसबीएसपी को आवंटित की थी और अखिलेश जी ने 27 नवंबर को इस निर्वाचन क्षेत्र में हमारे लिए एक रैली भी की थी।

यह भी बताया गया कि रीता सिंह के दिवंगत पति संडीला विधायक थे, उन्होंने 2012 में सपा के टिकट पर सीट जीती थी, लेकिन उनकी जड़ें और परिवार लखनऊ में हैं। पार्टी उन्हें लखनऊ कैंट या किसी अन्य लखनऊ सीट पर मैदान में उतारेगी। रीता सिंह लखनऊ के मशहूर भार्गव परिवार से हैं। वह एक स्वतंत्रता सेनानी और कांग्रेस नेता स्वर्गीय रानी रामकुमार भार्गव की बेटी हैं।

रीता सिंह के भाई लव भार्गव पहले समाजवादी पार्टी के प्रदेश महासचिव थे। लव भार्गव ने 1993 के यूपी विधानसभा चुनाव में लखनऊ पूर्व सीट से सपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा था। फिलहाल हरदोई की संडीला विधानसभा क्षेत्र से गठबंधन की दोनों पार्टियों द्वारा अलग-अलग प्रत्याशी उतारने के बाद वहां कार्यकर्ताओं में हलचल बढ़ गई यही, अब देखना है कि यहां आगे क्या फै