हिंदी सिर्फ हमारी भाषा नहीं,हमारी पहचान भी है- शशिधर यादव

212

मरदह:विकासखण्ड के बरहीं ग्रामसभा के प्रधान शशिधर यादव ने विश्व हिंदी दिवस की सभी को शुभकामनाएं दी।और बताया कि आज के समय में हमारी भाषा का विशेष महत्व है।डिजिटल के बढ़ते युग में भाषाओँ की एहमियत भी काफी बढ़ गई है। हर वर्ष आज के दिन विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। दरअसल इस दिन को मनानें के पीछे विश्व में हिंदी भाषा के प्रचार और प्रसार के लिए जागरूकता फैलाना है।ज्ञात हो कि वर्ल्ड हिंदी दिवस के मौके पर पूरी दुनिया निबंध प्रतियोगिता समेत कई ऐसे कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं जिससे हिंदी भाषा के प्रति लोगों को अधिक-अधिक जागरूक किया जा सके। वर्ष 1975 में भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने प्रथम हिंदी सम्मलेन का उद्घाटन किया था। साथ ही विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी 2006 को पहली बार सेलिब्रेट किया गया था।

वैसे पूरी दुनिया में अंग्रेजी, मंदारिन और स्‍पेनिश के बाद हिंदी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। भारत के अतिरिक्त कई अन्‍य देशों में भी व्‍यापक रूप से इसे लोग बोलते हैं। एक अनुमान के अनुसार लगभग 65 करोड़ लोग किसी न किसी माध्‍यम से अपने दैनिक जीवन में हिंदी बोलते हैं।