होली व शब-ए-बारात का पर्व हिंदु मुस्लिमों ने सौहार्दपूर्वक मनाया

168

जखनियां: हिंदुओं का प्रमुख त्योहार होली व मुस्लिम का त्यौहार शब-ए-बारात एक साथ होने से स्थानीय पुलिस प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद थी। ताकि कोई अप्रिय घटना ना हो सके।जब तक दोनो समुदायों के पर्व सकुशल सम्पन्न नही हुए थे तब तक स्थानीय प्रशासन पूरी तरह चौकन्ना दिखी।वहीं दूसरी तरफ हिंदू मुस्लिम दोनों समुदाय के लोगों ने आपस में मिलजुल कर गंगा जमुनी की तहजीब के रुप में आपसी भाईचारे के साथ होली व शब-ए-बरात का पर्व मनाया।कई जगहों पर तो होली के त्यौहार को हिंदू मुस्लिम दोनों साथ खेलते हुए देखे गए। इस साल होली का त्यौहार रंगों की अपेक्षा अबीर-गुलाल से ज्यादा खेले गये। वही शब-ए-बरात पर्व पर मुस्लिम समुदाय ने पूरी रात जागकर मस्जिदों में इबादत की तथा अपने गुनाहों की माफी के लिए दुआयें मांगी।तथा अपने मुल्क में अमनों शांति के लिए दुआ की।क्षेत्र के तमाम मस्जिदों में रात भर दुआ ख्वानी होती रही तथा कब्रिस्तानों पर लोग जाकर अपने पूर्वजों के लिए दुआ मांगी।भुड़कुडा़ कोतवाली के सब इंस्पेक्टर हीरामणि यादव ने बताया कि जब तक दोनों समुदायों का त्यौहार सकुशल संपन्न नहीं हुआ था तब तक पुलिस प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद रही।इसमें स्थानीय लोगों तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं का दोनों समुदायों के बीच आपसी सौहार्द प्रतिस्थापित करने में विशेष योगदान रहा।